Television

Bombay Begums on Netflix-Filmynism

Bombay Begums : आपत्तिजनक सीन पर बाल आयोग नाराज, Netflix को सीन हटाने का भेजा फरमान

ओटीटी प्लेटफाॅर्म (OTT Platforms) पर कंटेंट की निगरानी नहीं होने से कुछ भी दिख दिया जाता था, पर कुछ समय में कहीं न कहीं से किसी न किसी संस्था या एजेंसी की नजर पड़ ही जा रही है। ताजा वाकया एक बार फिर से नेटफ्लिक्स (Netflix) के साथ हुआ है। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स को वेब सीरीज बॉम्बे बेगम्स (Bombay Begums) से आपत्तिजनक दृश्य हटाने के लिए गुरुवार तक का समय दिया है।

Advertisement

बता दें कि गत 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day) पर रिलीज हुई सीरीज के कुछ दृश्यों को लेकर आयोग ने एतराज जताते हुए नेटफ्लिक्स को नोटिस भेजा था। बॉम्बे बेगम्स की डायरेक्टर अलंकृता श्रीवास्तव (Alankrita Shrivastava) हैं। अलंकृता श्रीवास्तव मुजफ्फरपुर बिहार की हैं और इससे पहले वे लिपिस्टक अंडर माई बुर्का का निर्देशन कर लोगों के बीच पाॅपुलर हो चुकी हैं। आयोग ने 11 मार्च को नेटफ्लिक्स को एक नोटिस भेजकर शो में बच्चों से संबंधित आपत्तिजनक कंटेंट के चलते प्लेटफॉर्म से हटाने के लिए कहा था। साथ ही नेटफ्लिक्स से 24 घंटों के भीतर जवाब तलब किया था, जिसका पालन ना करने पर वैधानिक कार्रवाई की चेतावनी दी थी।

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) की नोटिस में कहा गया था कि इस तरह का कंटेंट बच्चों के दिमाग को ना सिर्फ को दूषित करेगा, बल्कि उन्हें शोषण के रास्ते पर ले जा सकता है। आयोग ने कहा था कि नेटफ्लिक्स को बच्चों से संबंधित कंटेंट प्रसारित करने में विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। अल्पवयस्कों पर दिखायी गये कामुक और ड्रग्स वाले दृश्यों पर नाराजगी जाहिर की थी। इस कदम से फिल्म से जुड़े लोगों को नुकसान हो सकता है। बता दें कि इससे पहले भी नेटफ्लिक्स की वेबसीरीज पर बवाल मच चुका है।

बता दें, ट्विटर पर कुछ यूजर्स ने इस मुद्दे को उठाते हुए इसकी शिकायत बाल आयोग से की थी, जिसके बाद आयोग ने नेटफ्लिक्स को नोटिस भेजा। शिकायतकर्ता ने एक स्क्रीनशॉट नत्थी किया था, जिसमें 13 साल के बच्चे को प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन करते हुए दिखाया गया था। बॉम्बे बेगम्स में पूजा भट्ट, अमृता सुभाष, शहाना गोस्वामी ने मुख्य किरदार निभाये हैं। हालंाकि जिसने भी यह फिल्म देखी है, उनका मानना है कि इसमें ऐसा कुछ भी नहीं है, जिससे इस पर प्रतिबंध लगाने या सीन हटाने जैसा कदम उठाया जा सकता है।

Have your say