Bolly

फिल्म निर्देशक महेश भट्ट साफ-सुथरी छवि के लिए छपवा रहे हैं ‘स्पॉन्सर्ड आर्टिकल’

दिवंगत बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई जाँच पर मुहर लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा कि आगे कोई भी FIR इस मामले में दर्ज हुई तो सीबीआई उसे भी देखेगी। उच्चतम न्यायालय के इस फैसले के आते ही बॉलीवुड फिल्म निर्देशक महेश भट्ट फौरन मीडिया में अपने बारे में प्रायोजित (स्पॉन्सर्ड) आर्टिकल छपवाते देखे गए।

अगस्त 20, 2020 सुबह ही समाचार पत्र हिन्दुस्तान टाइम्स में महेश भट्ट के सम्बन्ध में एक लेख प्रकाशित हुआ है, जिस पर स्पष्ट रूप से ‘प्रायोजित लेख’ लिखा गया है। हिंदुस्तान टाइम्स द्वारा इस लेख को ‘ब्रांड स्टोरीज’ के अंतर्गत ‘प्रोमोशनल फीचर’ कॉलम में स्थान दिया गया है।

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के तुरंत बाद से ही बॉलीवुड में नेपोटिज्म यानी ‘बाहरी’ अभिनेता और अभिनेत्रियों के साथ किया जाने वाला बर्ताव बहस का विषय बन गया। नेपोटिज्म की इस बहस के जोर पकड़ने के साथ ही सुशांत सिंह राजपूत की प्रेमिका और बॉलीवुड अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती भी शक के घेरे में आ गईं।

सुशांत की मौत की जाँच के दौरान रिया की महेश भट्ट से नजदीकियों के तथ्य भी सामने आए। रिपोर्ट के मुताबिक, रिया चक्रवर्ती ने 8 जून से 13 जून के बीच महेश भट्ट से कई बार बात की। ईडी के सोर्सेज के अनुसार, 8 जून से 13 जून के बीच रिया और महेश की बातचीत अचानक काफी बढ़ गई थी।

वहीं, महेश भट्ट के ऑफिस में काम करने वालीं उनकी सहायक सुहरिता दास ने फेसबुक पर रिया से जुड़े कई खुलासे किए थे। इसमें उन्होंने बताया था कि रिया, सुशांत के बारे में महेश भट्ट से सलाह लेती थीं और उन्होंने रिया को सुशांत से दूर रहने को कहा था।

दरअसल मीडिया ख़बरों की बात करें तो इतने वर्षों तक इंडस्ट्री में कभी अपनी भूतपूर्व प्रेमिकाओं की आत्महत्या की कहानियाँ, तो कभी गैंगस्टर्स की कहानियाँ बेचकर एक मुकाम हासिल करने वाले महेश भट्ट को सीबीआई जाँच के दौरान इस तरह के प्रायोजित मीडिया मैनेजमेंट की जरूरत क्यों पड़ गई, ये सवाल मीडिया द्वारा उठाया जा रहा है।

Have your say