Bhojpuri

Tu Deeya Aur Baati Hum-Filmynism

भोजपुरी फिल्में पसंद नहीं करने वाले दर्शकों को भी भा रही ‘तू दीया और बाती हम’

भोजपुरी फिल्म देखने वालों का एक अलग वर्ग है। हाल के दिनों में भोजपुरी सिनेमा में बढ़ती अश्लीलता के कारण इसके दर्शकों में भी कमी आई है। हालांकि अब भी ऐसी फिल्में बन रही हैं, जिसे लोग परिवार के साथ देखना पसंद करते हैं। बाल विवाह के बाद की एक रचनात्मक कथ्य को लेकर बनी भोजपुरी फिल्म ‘तू दीया और बाती हम’ भोजपुरी के वैसे दर्शकों को पसंद आ रहा है, जो इसे कभी नापसंद किया करते थे।

फिल्म ‘तू दीया और बाती हम’ के अभिनेता कुणाल तिवारी कहते हैं कि अब समय गया जब भोजपुरी फिल्में लोग पसंद नहीं करते थे। अब कहानियां तो अच्छी आती ही हैं, अश्लीलता में भी कमी आई है, जिस कारण लोग एक बार फिर से भोजपुरी सिनेमा की तरफ रूख कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि हमारी फिल्म को बहुत सारे लोगों ने देखा है। उम्मीद है कि हमारी फिल्म की रेटिंग भी अच्छी आएगी। कुणाल कहते हैं कि फिल्म का क्लाइमेक्स इतना शानदार है कि लोग इस पर बढ़ चढ़ कर बात कर रहे हैं। कह रहे हैं कि फिल्म की एंडिंग तेरे नाम जैसी है, क्योंकि इस फिल्म का मुख्य किरदार राम पारालाइज्ड हो जाता है और फिल्म इसी के साथ खत्म होती है।

‘तू दीया और बाती हम’ की शूटिंग यूपी के रॉबर्टगंज में हुई है। फिल्म के निर्देशक संतोष मिश्रा हैं। प्रोड्यूसर धर्मेंद्र कुमार झा हैं। इसकी कहानी के इमोशन दर्शकों को खूब पसंद आने वाले हैं। फिल्म के डायलॉग और गाने भी सुमधुर हैं। फिल्म में कुणाल तिवारी के साथ काजल यादव, प्रकाश जैश, उमाकांत राय, ललित उपाध्याय, रूपा सिंह, रंभा आदि मुख्य भूमिका में हैं।

अभिनेता तिवारी ने कहा कि फिल्म ‘तू दीया और बाती हम’ बाल विवाह के बाद की घटना पर आधारित है। बाल विवाह के बाद जब जवानी के दिनों में लड़का एक एक्सीडेंट में परालाइज्ड हो जाता है, तब उसकी शादी को लेकर सवाल खड़े हो जाते हैं। इसके बाद जो होता है, वो लोगों को बेहद पसंद आ रहा है। फिल्म की कहानी बेहद खूबसूरत है। ऐसा अक्सर हिंदी फिल्मों में दिखाया जाता रहा है, पर अब भोजपुरी के दर्शकों भी दमदार कहानी देखने को मिलेगी। मधु मंजुल आर्ट्स प्रस्तुत फिल्म ‘तू दिया और बाती हम’ के निर्माता धीरेंद्र झा हैं और संतोष मिश्रा ने फिल्म का निर्देशन किया है।

Have your say